Personal Loan लेने का है विचार तो अप्लाई करने से पहले इन बातों का रखें खास ध्यान,

Personal Loan लेने का है विचार तो अप्लाई करने से पहले इन बातों का रखें खास ध्यान, NBFC का लोन पड़ेगा महंगा…

Personal Finance

भारत में कई प्रसिद्ध बैंक और वित्तीय संस्थान आकर्षक ब्याज दरों पर व्यक्तिगत ऋण प्रदान करते है, अगर आपका है Personal Loan लेने का है विचार तो अप्लाई करने से पहले इन बातों का रखें खास ध्यान, आज हम आपको बताएंगे कि कैसे किसी एक बैंक को चुनें जो सबसे अच्छा है, यानि जो आपको सबसे कम ब्याज दरों पर ऋण (Loan) प्रदान करता है।

आपको बता दें कि लोन दो प्रकार के होते हैं पहला सिक्योर्ड लोन और दूसरा अनसिक्योर्ड लोन सिक्योर्ड लोन में अमूमन बैंक गारंटी लेते हैं. होम लोन और ऑटो लोन सिक्योर्ड लोन की श्रेणी में आते हैं. जबकि अनसिक्योर्ड लोन में किसी तरह की गारंटी नहीं ली जाती है. यह ग्राहक की लोन अदायगी की क्षमता को देखकर दिया जाता है. पर्सनल लोन अनसिक्योर्ड लोन कैटेगरी में आता है। बैंक और गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियां (Non-Banking Financial Company- NBFC) कई तरह की जरूरतों के लिए पर्सनल प्रदान करती हैं।

Personal Loan लेने का है विचार तो अप्लाई करने से पहले इन बातों का रखें खास ध्यान

पर्सनल लोन में सिक्योर्ड लोन के मुकाबले ब्याज की दर ज्यादा होती है. क्योंकी पर्सनल लोन बिना किसी गारंटी के दिए जाते हैं. इसमें बैंक लोन की राशि के बदले में आपसे कोई एसेट गिरवी नहीं रखते हैं. इस तरह इन लोनों की वसूली में बैंकों के हाथ बंधे होते हैं. यही कारण है कि अन्य सिक्योर्ड लोन के मुकाबले पर्सनल लोन में ब्याज की दर ज्यादा होती है। इतना ही नहीं पर्सनल लोन देने में बैंकों ने काफी कड़े मापदंड रखे हैं. इनमें ग्राहक की इनकम, क्रेडिट व एम्प्लॉयमेंट हिस्ट्री और लोन चुकाने की क्षमता को देखा जाता है. इन तमाम पहलुओं की समीक्षा के बाद ही बैंक लोन अप्रूव करता है।

अगर गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियां (Non-Banking Financial Company) से पर्सनल लोन लें तो ज्यादा परेशानी नहीं होती (NBFC) से पर्सनल लोन लोन बहुत आसानी से मिल जाता है। लेकिन गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों बैंकों के मुकाबले काफी अधिक ब्याज वसुलती हैं. बैंक पर्सनल लोन पर 8.5% से लेकर 13% तक ब्याज लेते हैं. वहीं अगर बात करें गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों की तो वो पर्सनल लोन पर 11% से लेकर 30% तक ब्याज वसूलते हैं।

हालांकी कई बार बैंक और गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियां कुछ चुनिंदा ग्राहकों को उनकी फाइनेंशियल हिस्ट्री (Financial History) के आधार पर प्री-अप्रूव्ड लोन (Pre-Approved Loan) की सुविधा भी देते हैं. इसमें न केवल किफायती ब्याज दरों की पेशकश की जाती है, बल्कि लोन देने में ज्यादा कागजी लिखा-पढ़ी भी नहीं की जाती है. इस तरह के लोन में ग्राहक के खाते में दो से पांच दिनों में पैसे ट्रांसफर कर दिए जाते हैं।

Spread the love

Leave a Reply